Jul 30, 2016

बिहार की लोक संस्कृति का जीवंत चित्र है फिल्म जट जटिन



सबसे पहले मैं उस व्यक्ति को धन्यवाद देना चाहूँगा जिन्होंने फिल्म जट जटिन  को YouTube पर अपलोड किया जिसकी वजह इसे देख पाना मेरे लिये संभव हुआ. 

कहा गया है कि सिनेमा समाज का आईना होता है. संस्कृति का वाहक होता है और मुख्य कहानी के साथ ही साथ कई छोटी- छोटी घटनाओं का एक क्रमिक विन्यास होता है. हिंदी फीचर फिल्म जट जटिन के संदर्भ में ये बातें बिलकुल सटीक बैठती हैं.  जट जटिन फिल्म की शुरुआत बाहर से एक रिसर्च स्कॉलर के गोदरगावा पुस्तकालय पर आगमन से होता है. जो जन मानस में बसे जट जटिन की लोक कथा के अध्ययन और अन्वेषण के लिये वहां पधारते हैं. वहीँ से जट जटिन फिल्म की शुरुआत होती है. इस फिल्म के निर्माता और लेखक श्री अनिल पतंग जी ने बिहार की लोक संस्कृति में रची- बसी इस लोक नाटिका को फिर से जीवित कर दिया है. शादी के विधि विधान, महिलाओं द्वारा शादी के गीत, आदि का सुन्दर चित्रण किया है. जब बच्चों का जन्म होता है तो बख्खो बखोनी बधाइयाँ देने आते हैं, नाचते गाते हैं और उपहार ले जाते हैं. लगभग हर गाँव में ग्राम देवता की पूजा होती है. ब्रह्म बाबा स्थान एक अति पवित्र स्थान होता है, जिसका कई बार जिक्र आया है इस फिल्म में. जब नायिका के बच्चे को सांप काट लेता है तो उसे भगत जी के पास ले जाया जाता है और भगतई का बहुत बखूबी चित्रण किया गया है. इस फिल्म के द्वारा स्त्री शिक्षा के महत्व को बताया गया है. इसमें दिखाया गया है कि किस प्रकार नायिका पढने स्कूल जाती है और शिक्षा ग्रहण करती है.




इस फिल्म के द्वारा गरीबी, चिकित्सा का अभाव, सामजिक अन्धविश्वास जैसे डायन, पोंगा पंथीपना,  आदि अनेक विषयों को कुशलतापूर्वक दिखाया गया है. समाज का अमीर और दबंग व्यक्ति और उसके परिवार के लोग किस तरह से लोगों के साथ अनाचार और गलत व्यवहार करते हैं, वह स्पष्ट देखा जा सकता है.

इस फिल्म के द्वारा यह भी दिखाया गया है कि कृषि और पशुपालन आधारित सामाजिक व्यवस्था लोगों के जीवन दशा को सुधारने में अक्षम है और इसलिए फिल्म का नायक अपने बच्चे की अच्छी परवरिश के लिये होरी के गोबर की तरह  पलायन कर मोरंग जाता है. यह एक सामाजिक कटु सत्य है कि कृषक परिवार के बच्चे आज भी पलायन कर रहे हैं. 
अब बात करते हैं कलाकरों की. इस फिल्म में अभिनेत्री अमर ज्योति ने बहुत ही दमदार अभिनय और नृत्य किया है. उनके अभिनय की जितनी तारीफ़ की जाय कम ही होगा. नायक राजीव दिनकर का अभिनय भी बढ़िया है. सरपंच का भतीजा चमरू इस फिल्म का मुख्य विलेन है. विलेन के साथ ही साथ वह एक नंबर का लफुआ और बदतमीज है. इस रोल को अमिय कश्यप ने बखूबी निभाया है. 

अब करते हैं इस फिल्म के संगीत की बात. इस फिल्म में कुल 16 गाने हैं. इसमें कुछ गाने तो बिहार की माटी की बोल हैं. जैसे – भैया मलहवा हो नैया लगा दे नदिया के पार (LINK), टिकवा जब जब..., धानमा कुटत जट्टा..., आदि अनेक लोकप्रिय गीत हैं. लेकिन गानों की अधिकता फिल्म को कहीं कहीं बोझिल बना देता है.

इस फिल्म की ज्यादतर शूटिंग मिथिलांचल क्षेत्र में ही हुई है जिससे इसकी मौलिकता स्पष्ट दीखती है. इस फिल्म में स्थानीय कलाकारों को प्राथमिकता दी गयी है जो बहुत ही सराहनीय प्रयास है.  

फिल्म के संवाद में हिंदी के साथ ही साथ स्थानीय शब्दों को शामिल किया गया है जो इसे प्रमाणिक और असरदार बनाता है. कहीं-कहीं फिल्म थोड़ी धीमी हो जाती है. छायांकन और लाइट्स के प्रभाव को और बेहतर बनाया जा सकता था. 

इस फीचर फिल्म को न्यूयॉर्क इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में ढाई लाख डॉलर से कम लागत से निर्मित फिल्मों की श्रेणी में मेरिट अवार्ड से सम्मनित किया गया. यह एकमात्र हिंदी फिल्म है जिसे यह गौरव प्राप्त हुआ है. इसके साथ ही साथ इस हिंदी फीचर फिल्म को कई अन्य पुरस्करों से नवाजा गया है.

कुल मिलाकर इस फिल्म के निर्माता निर्देशक बधाई के पात्र हैं एक अच्छी और प्रभाव शाली फिल्म बनाने के लये. बिहार के सांस्कृतिक चेतना को जगाने में यह फिल्म एक महती भूमिका अदा करेगी ऐसा विश्वास है. जट जटिन मात्र एक हिंदी फीचर फिल्म ही नहीं बल्कि बिहार के सामाजिक और सांस्कृतिक जीवन का प्रतिबिम्ब है. कुल मिलाकर यह एक बहुत ही शानदार फीचर फिल्म है. 

This post is written by  guest blogger Pankaj Kumar.  Read more most written by Pankaj Kumar on www.behtarlife.com


Jul 29, 2016

समय पर टैक्स जमा करें और जिम्मेदार नागरिक बनें

इतिहास गवाह है कि प्राचीन काल से लेकर आधुनिक काल तक, मौर्य काल से लेकर मुग़ल काल तक और आज भी, यानि आधुनिक काल में भी लोगों ने राजा को, सामन्त को, जमींदार को, सरकार को,  टैक्स यानि कर चुकाए हैं. 

लगान, राजस्व, कर, जजिया कर, शिक्षा कर आदि आदि इसे कई नामों से जाना जाता है. अब सवाल उठता है कि यह टैक्स क्यों वसूला जाता है?आज के सन्दर्भ में सीधा जबाब है देश के चहुमुखी विकास के लिये. आप राजमार्ग से जाते हैं, स्कूल, कॉलेज, हॉस्पिटल, मुफ्त दवाइयां, किसानों को सब्सिडी यह सब कहाँ से आता है. लोगों द्वारा दिए गए टैक्स से ही तो ये सारे लोक कल्याणकारी योजनायें चलाई जाती है. 




जिस देश में जितने लोग टैक्स देते हैं वह देश उतना धनी, संपन्न, विकसित माना जाता है. प्रत्येक देश की सरकारें कुछ मानक तय करती है कि यदि एक व्यक्ति एक निश्चित सीमा से ज्यादा कमाता है तो वह  उस कमाई से कुछ रकम सरकार को टैक्स के रूप में देगा. इसके लिये पूरा इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ही बना हुआ है. 

यदि एक व्यक्ति सही रूप से और समय पर अपना टैक्स जमा करता है तो इसके बहुत सारे फायदे भी हैं. जैसे यदि वह व्यक्ति होम लोन के लिये आवेदन देता है तो सबसे पहले उसका इनकम टैक्स रिटर्न की कॉपी माँगी जाती है. यदि आप विदेश यात्रा पर जाते हैं तो आपसे इनकम टैक्स रिटर्न माँगा जाता है. अतः इनकम टैक्स रिटर्न एक प्रमुख वित्तीय दस्तावेज होता है. 

एक आदर्श नागरिक अपने देश के प्रति अपनी जिम्मेदारियों का भली भांति निर्वाह करता है. वह समय पर इनकम टैक्स भरकर देश की भलाई के बारे में सोचता है. अपनी आय को सरकार से छुपाना अपराध है. 
किसी भी देश के विकास को गति देने के लिये धन की बहुत जरुरत होती है. सरकार नयी- नयी योजनायें किस आधार पर शुरू करती है - टैक्स के बल पर. यदि किसी देश में इनकम टैक्स देनेवालों की संख्या में प्रतिवर्ष बढ़ोतरी हो रही है इसका मतलब है वह देश विकास कर रहा है. तो आइये हमसब  यह शपथ लेते हैं कि हम अपना इनकम टैक्स समय पर और सही सही जमा करेंगे और अपने देश को विकास की नयी ऊँचाइयों पर ले जायेंगे.    

I’m taking the #TaxPledge to file IT returns with the easy Income Tax efiling option from H&R Block at BlogAdda.

Jul 28, 2016

Benefits of Filing Income Tax Return


Do you know how does the Government start any developmental work in an area? Government collects its revenue in the form of taxes. 

What will happen if citizens of any country do not pay tax on time? It is clear that government will not be able to have adequate amount of revenue, thus it will hamper the growth of the country. With the development of civilization, a system of collecting taxes has developed. Now every year that is, in a financial year, the people who have earned money and if their income come in tax slot, they pay tax themselves. 

Paying tax on time and with honesty is the responsibility of a citizen. There is a proper system for collecting tax. If you are a government employee or working in private sector or a professional, if your earnings lie in tax slot, you have to pay tax. 

Tax is a major source of revenue for government. When you see the government budget, you can notice that tax part is the main source of income. Government of India encourages people to disclose their unaccounted money and pay tax; the rest money will be white, if you pay tax for that accounted amount.




On the other hand there are many benefits of paying tax. It will improve your CIBIL Score, thus you can take loan easily. If you want to take home loan, the bank will ask you for Income tax returns. If you want to go abroad, you have to show your IT returns.

It is duty of every citizen to be a part of nation’s growth. If you pay your income tax you can sleep well, otherwise ask those people who have got notice from income tax department. So be a responsible citizen of India and pay tax on time. 

Let us be the part of nation building. If citizens of India will pay tax on time , no one can stop the growth of our country. 

I’m taking the #TaxPledge to file IT returns with the easy Income Tax efiling option from H&R Block at BlogAdda.

Jul 24, 2016

Colgate Magical Story with Sea World Creatures


To enhance the knowledge and creativity of a child, this time Colgate has designed four different packs having a story line in them. These packs have many sea world creatures and other famous characters. The objective of this activity is to make the children imagine a story in a new way. On the other hand, they are able to know about many trivia and tidbits about sea creatures. 

When I receive these four packs, my daughter seems very happy. She started observing all the characters printed inside the packs. I told her to cut all the characters and try to weave a story.

She was very enthusiastic to do this project. She took it as a new task. She cut all the characters and wrote all the information on a sheet of paper. It was very informative because around 15 sea creatures have been mentioned in all the four packs. Collectively it is like a sea world picture book for a child. 

My daughter weaved a Colgate magical story, which I would like to mention here.


Blackbeard, with his assistant Sadie, was always in search of treasure hidden under the sea. He was very experienced sailor and navigator. He had many magical powers. He had a sword with magical powers. He could fight with any dangerous animals with the help of his sword.  Sadie, on the other hand, was very clever and could understand many languages and had great knowledge and behavior of sea world animals.
They had a parrot which could imitate human voice. They were on sail to search the treasure in the Indian Ocean.  


They found the colourful Coral reefs in their sea route. Sadie was noting down the details of animals and sea world creatures around the Coral Reefs. They saw many dolphins during their navigation. Some were small and some were big. Dolphin is a very cool animal.  They saw sting ray, killer whale, Barracuda, Sea horse, Sea turtle, Lion fish and many other sea animals during their hunt of the treasure. Sadie was using many devices to find out the location of castle. They had to find the castle so that they could get the treasure map. 


With the help of modern gadgets, Sadie helped the Blackbeard to find the exact location of the castle. Now Blackbeard prepared himself to get down under the sea water.

When he dived into sea water, it was very pleasant environment inside. The sea water was like blue world all around. The Blackbeard chanted some magical words. He saw a mermaid in front of him showing him the way to castle.  He saw sharks and crabs roaming around but he was fearless as he was having the magical sword. After searching here and there, he was able to find the treasure map. Now the final journey started. He had to find the treasure


After swimming around half an hour, he saw a shipwreck. There he saw sea animals like star fish, puffer fish, etc. As he was nearing the treasure, he was attacked by a sword fish. Sword fish attacked his left hand. But the Blackbeard was a brave man. In the reply, he attacked the sword fish, and finished it in single blow.

When the octopus saw the fight between the Blackbeard and Sword fish, it became afraid and fled away. Thus the Blackbeard got the treasure easily. 

If you want more information about Colgate Magical Story, please visit  http://www.colgate.co.in/en/in/oc

Jul 10, 2016

How important is it for children to catch up on lost growth


It is the wish of every parent that his child should have proper physical and mental health. Some children attain their physical development, i.e. height and weight, according to their age, while some children lag behind. Now the question arises whether these children will be able to catch up their lost growth perfectly and on time.  Every parent should know the reason of this delayed growth. What are the reasons of this lost growth? And what is the importance of catch up on lost growth?





A child’s overall development is of prime importance. Today's children are tomorrow's future. They have to take the responsibility of the society and the nation on their shoulders. So, it is very important for them to have proper and all-round growth in their early years.

An infant starts to develop in the womb of the mother since inception. That is why, pregnant women are advised to eat balanced diet. After his birth, an infant’s growth is very important up to two years. This is the time when children grow more.

If a child fails to develop properly in the first three years, then his or her lost growth can be caught up in the coming years. You must have seen some children who are less tall than their peers or their friends, some of them have even low level of intelligence.

The question arises here what is the reason of this poor or delayed growth? There are many causes of this lost growth? According to research done on this topic, the biggest cause is malnutrition. Malnutrition in itself is a very big topic. Malnutrition or under-nutrition is a major challenge among most of the third world countries.  Other causes include genetic cause, metabolism related problems or other local causes.

As far as malnutrition is concerned, the children do not get balanced diet having all the essential ingredients which is necessary for overall development of the body.

Today medical science has made so much progress that we can catch up on the lost growth of a child.

Recently Horlicks has launched a fantastic product to cater the needs of proper development of three to nine years children. It is - Horlicks Growth Plus. It has been prepared by International pediatric experts. If you feel that your child's physical development is not up to the mark, you should consult a qualified doctor and use Horlicks Growth Plus as food supplement. It contains whey protein and many other nutrients to accelerate the lost growth of the children. Use this product for at least six months and notice growth. This product is clinically proven.

For further information about Horlicks Growth Plus please visit this website:  https://growthplus.horlicks.in/

Finally we can say that children are the darlings of their parents, they are the assets of society; and the future generation of the country. Hence, their proper development is significantly important.


Read the same post in Hindi:

हर माँ बाप की यह इच्छा होती है कि उनका बच्चा शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ हो. कुछ बच्चों का शारीरिक विकास यानि लम्बाई और वजन, उनकी उम्र के अनुसार होता है जबकि कुछ बच्चे इसमें पीछे रह जाते हैं. अब सवाल यह उठता है कि क्या ये बच्चे आगे चलकर विकास की पूर्णता को प्राप्त कर सकेंगे या नहीं. हर माता पिता का यह जानना जरुरी हो जाता है कि उनका यह growth lost क्यों हुआ. इसके क्या कारण हो सकते हैं? और इसका क्या महत्व है?

किसी भी बच्चे के संपूर्ण विकास का अलग ही महत्व होता है. आज के बच्चे कल की भावी पीढ़ी होंगे. उनके कंधों पर देश और समाज की जिम्मेदारी आनेवाली है, इसलिए यह अति महत्वपूर्ण हो जाता है कि उनका सर्वांगीण विकास हो. 

माँ के गर्भ में आते ही बच्चों का विकास शुरू हो जाता है. इसलिए तो गर्भवती महिलाओं को संतुलित भोजन करने की सलाह दी जाती है. जन्म लेने के बाद नवजात शिशु का दो वर्ष का समय सबसे महत्वपूर्ण होता है. बच्चों का ज्यादातर विकास इसी दौरान होता है.

यदि कोई बच्चा पहले तीन साल तक सही तरह से विकास नहीं कर पाता है, तो क्या अगले आने वाले वर्षों में उसके खोये या रुग्ण विकास को पुनः प्राप्त किया जा सकता है. आपने कुछ बच्चों को देखा होगा जिनकी लम्बाई अपने हमउम्र दोस्तों की अपेक्षा कम होती है या उनकी बौद्धिकता का स्तर उनसे थोडा कम होता है. 

अब सवाल यह उठता है कि क्या इस रुग्ण या कमतर विकास की क्या वजह है? इसके कई वजह हो सकते हैं? शोधों से आये परिणामों के मुताबिक कुपोषण इसका सबसे बड़ा कारण है. कुपोषण अपने आप में एक बहुत बड़ा विषय है. तीसरी दुनिया के  ज्यादातर देशों में कुपोषण या अल्प पोषण की समस्या है. अन्य कारणों में अनुवांशिक कारण, मेटाबोलिज्म से जुड़े कारण या अन्य स्थानीय कारण हो सकते हैं. 

जहाँ तक बात कुपोषण की है, बच्चों को संतुलित आहार नहीं मिल पाता है जिसमें शरीर के पूर्ण विकास हेतु सारे अवयव मौजूद हों. 
लेकिन आज मेडिकल साइंस इतना तरक्की कर चुका है कि बच्चों के इस खो चुके विकास को पुनः पाया जा सकता है.

अभी अभी हॉर्लिक्स ने तीन से नौ साल के बच्चों के उचित विकास के लिये शानदार उत्पाद बाजार में उतारा है. जी हाँ – Horlicks Growth Plus. इसका निर्माण अन्तराष्ट्रीय ख्यातिप्राप्त शिशु विशेषज्ञों द्वारा किया गया है. यदि आपको लगता है कि आपके बच्चे का  शारीरिक विकास जितना होना चाहिए था उतना नहीं हो रहा है तो आप किसी कुशल चिकित्सक की सलाह लें और Horlicks Growth Plus food supplement दें. इसमें whey protein और अन्य कई पोषक तत्व होते हैं जो बच्चे के रुके हुए या कम हो रहे विकास की गति को तेज कर उनके विकास को सामान्य बच्चों सा बना देते हैं. इसे कम से कम छह महीने तक देना चाहिए. तभी इसका सही असर होगा और उचित लाभ मिलेगा.  इस  उत्पाद को clinically prove करने के बाद बाजार में उतारा गया है. 

Horlicks Growth Plus के विषय में अधिक जानकारी के लिये यह वेबसाइट देखें:  https://growthplus.horlicks.in/

कुल मिलाकर बच्चे अपने माँ बाप के आँखों का तारा होते हैं, उनके लिये सारा सुख और सौरभ होते हैं, भावी जीवन में राष्ट्र के गौरव होते हैं. इसलिय उनका समुचित विकास बहुत आवश्यक होता है. 

Jul 2, 2016

बच्चों पर टीवी कल्चर का दुष्प्रभाव


आज के युग को टीवी युग कहा जा सकता है. टीवी ने अपनी पहुँच लगभग हर घर में बना ली है. बच्चा जब इसी कल्चर में पल और बढ़ रहा है, तो उसका असर बालमन पर पड़ना लाजिमी है, टीवी पर दिखाई गयी हिंसा उसे जीवन का सहज अंग सा प्रतीत होने लगती है. यह अनैतिक मूल्यों के साथ हिंसा के प्रभावों को भी ग्रहण करता चलता है.


पहले बच्चों का टीवी के आगे इतना ज्यादा exposure नहीं होता था. उस समय केवल, video games और multiplexes नहीं थे.फिल्मों में इतनी सेक्स और हिंसा नहीं होते थे. सामजिक बनावट और चलन के हिसाब को बच्चों को इन चीजों से दूर रखा जाता था, लेकिन आज स्थिति बिलकुल अलग है. आज किसी भी घर में प्रवेश कीजिये सामने एक बड़ा सा टीवी दिख जाएगा. बहुधा चलता हुआ टीवी और सोफे या कुर्सी में हाथ में रिमोट पकडे एक बच्चा. घर का पूरा माहौल टीवी के प्रभाव में जान पड़ता है. टीवी पर दिखाए गए हिंसापूर्ण और तथाकथित मनोरंजक कार्यक्रमों के दूरगामी परिणाम होते हैं.

वास्तव में ये बच्चों की पूरी सोच पर हावी हो जाते हैं. चूँकि यहाँ अपराध को प्रायः ग्लेमराइज किया जाता है, उसकी आलोचना नहीं की जाती इसलिए बच्चों का भोला मन उसे बुरा नहीं समझ पाता. घर परिवार में अभिभावक के पास इतना वक़्त नहीं होता कि बच्चों को इसके बारे में बता सकें. बच्चे यह मान  लेते हैं कि टीवी पर दिखाई  जा रही हिंसा हमारे दैनिक जीवन के अंग हैं तो यह उचित ही होगा. इस प्रकार बालक अपना गुरु स्वयं है या फिर टीवी.

ध्यातव्य है कि इस हिंसा का प्रभाव सिर्फ बालक पर ही नहीं लड़कियों पर भी पड़ता है. टीवी लड़कियों में बहादुरी पूर्ण काम करने की प्रेरणा देना चाहता है. कुछ हद तक यह बच्चों को कानून अपने हाथ में लेने को प्रेरित करता है. चलती बस में किसी को पीट देना. मार पीट या लड़ाई कब करनी चाहिए और कब नहीं इसक सही सही निर्णय लेने की परिपक्वता बच्चों में नहीं होती, इस प्रकार टीवी बच्चों को इस तरफ ले जाती है.

अब यहाँ जिम्मेदारी सरकार और परिवार की बनती है कि बच्चों  के आगे परोसे जानेवाले टीवी कार्यक्रम को कैसे परखा जाए ताकि बच्चों को हिंसात्मक और अनैतिक प्रोग्राम देखने से रोका जा सके.सरकारों को विश्व स्तर पर कानून बनाकर इसपर नियंत्रण रखना चाहिए. बच्चों को सिर्फ उसी तरह के कार्यक्रम देखने दिया जाय जिससे उनका सकारात्मक मानसिक और शारीरिक विकास संभव हो सके. टीवी पर इस तरह के कार्यक्रम बनानेवालों को थोड़ी परेशानी आयेगी लेकिन समग्र रूप से बच्चों का बहुत भला हो जायेगा.