Posts

Showing posts from July, 2016

बिहार की लोक संस्कृति का जीवंत चित्र है फिल्म जट जटिन

Image
सबसे पहले मैं उस व्यक्ति को धन्यवाद देना चाहूँगा जिन्होंने फिल्म जट जटिन  को YouTube पर अपलोड किया जिसकी वजह इसे देख पाना मेरे लिये संभव हुआ. 

कहा गया है कि सिनेमा समाज का आईना होता है. संस्कृति का वाहक होता है और मुख्य कहानी के साथ ही साथ कई छोटी- छोटी घटनाओं का एक क्रमिक विन्यास होता है. हिंदी फीचर फिल्म जट जटिन के संदर्भ में ये बातें बिलकुल सटीक बैठती हैं.  जट जटिन फिल्म की शुरुआत बाहर से एक रिसर्च स्कॉलर के गोदरगावा पुस्तकालय पर आगमन से होता है. जो जन मानस में बसे जट जटिन की लोक कथा के अध्ययन और अन्वेषण के लिये वहां पधारते हैं. वहीँ से जट जटिन फिल्म की शुरुआत होती है. इस फिल्म के निर्माता और लेखक श्री अनिल पतंग जी ने बिहार की लोक संस्कृति में रची- बसी इस लोक नाटिका को फिर से जीवित कर दिया है. शादी के विधि विधान, महिलाओं द्वारा शादी के गीत, आदि का सुन्दर चित्रण किया है. जब बच्चों का जन्म होता है तो बख्खो बखोनी बधाइयाँ देने आते हैं, नाचते गाते हैं और उपहार ले जाते हैं. लगभग हर गाँव में ग्राम देवता की पूजा होती है. ब्रह्म बाबा स्थान एक अति पवित्र स्थान होता है, जिसका कई बार जिक्र आया …

समय पर टैक्स जमा करें और जिम्मेदार नागरिक बनें

Image
इतिहास गवाह है कि प्राचीन काल से लेकर आधुनिक काल तक, मौर्य काल से लेकर मुग़ल काल तक और आज भी, यानि आधुनिक काल में भी लोगों ने राजा को, सामन्त को, जमींदार को, सरकार को,  टैक्स यानि कर चुकाए हैं. 

लगान, राजस्व, कर, जजिया कर, शिक्षा कर आदि आदि इसे कई नामों से जाना जाता है. अब सवाल उठता है कि यह टैक्स क्यों वसूला जाता है?आज के सन्दर्भ में सीधा जबाब है देश के चहुमुखी विकास के लिये. आप राजमार्ग से जाते हैं, स्कूल, कॉलेज, हॉस्पिटल, मुफ्त दवाइयां, किसानों को सब्सिडी यह सब कहाँ से आता है. लोगों द्वारा दिए गए टैक्स से ही तो ये सारे लोक कल्याणकारी योजनायें चलाई जाती है. 




जिस देश में जितने लोग टैक्स देते हैं वह देश उतना धनी, संपन्न, विकसित माना जाता है. प्रत्येक देश की सरकारें कुछ मानक तय करती है कि यदि एक व्यक्ति एक निश्चित सीमा से ज्यादा कमाता है तो वह  उस कमाई से कुछ रकम सरकार को टैक्स के रूप में देगा. इसके लिये पूरा इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ही बना हुआ है. 

यदि एक व्यक्ति सही रूप से और समय पर अपना टैक्स जमा करता है तो इसके बहुत सारे फायदे भी हैं. जैसे यदि वह व्यक्ति होम लोन के लिये आवेदन देता है तो …

Benefits of Filing Income Tax Return

Image
Do you know how does the Government start any developmental work in an area? Government collects its revenue in the form of taxes. 

What will happen if citizens of any country do not pay tax on time? It is clear that government will not be able to have adequate amount of revenue, thus it will hamper the growth of the country. With the development of civilization, a system of collecting taxes has developed. Now every year that is, in a financial year, the people who have earned money and if their income come in tax slot, they pay tax themselves. 

Paying tax on time and with honesty is the responsibility of a citizen. There is a proper system for collecting tax. If you are a government employee or working in private sector or a professional, if your earnings lie in tax slot, you have to pay tax. 

Tax is a major source of revenue for government. When you see the government budget, you can notice that tax part is the main source of income. Government of India encourages people to disclose th…

Colgate Magical Story with Sea World Creatures

Image
To enhance the knowledge and creativity of a child, this time Colgate has designed four different packs having a story line in them. These packs have many sea world creatures and other famous characters. The objective of this activity is to make the children imagine a story in a new way. On the other hand, they are able to know about many trivia and tidbits about sea creatures. 
When I receive these four packs, my daughter seems very happy. She started observing all the characters printed inside the packs. I told her to cut all the characters and try to weave a story.
She was very enthusiastic to do this project. She took it as a new task. She cut all the characters and wrote all the information on a sheet of paper. It was very informative because around 15 sea creatures have been mentioned in all the four packs. Collectively it is like a sea world picture book for a child. 
My daughter weaved a Colgate magical story, which I would like to mention here.

Blackbeard, with his assistant …

How important is it for children to catch up on lost growth

Image
It is the wish of every parent that his child should have proper physical and mental health. Some children attain their physical development, i.e. height and weight, according to their age, while some children lag behind. Now the question arises whether these children will be able to catch up their lost growth perfectly and on time.  Every parent should know the reason of this delayed growth. What are the reasons of this lost growth? And what is the importance of catch up on lost growth?





A child’s overall development is of prime importance. Today's children are tomorrow's future. They have to take the responsibility of the society and the nation on their shoulders. So, it is very important for them to have proper and all-round growth in their early years.

An infant starts to develop in the womb of the mother since inception. That is why, pregnant women are advised to eat balanced diet. After his birth, an infant’s growth is very important up to two years. This is the time when c…

बच्चों पर टीवी कल्चर का दुष्प्रभाव

Image
आज के युग को टीवी युग कहा जा सकता है. टीवी ने अपनी पहुँच लगभग हर घर में बना ली है. बच्चा जब इसी कल्चर में पल और बढ़ रहा है, तो उसका असर बालमन पर पड़ना लाजिमी है, टीवी पर दिखाई गयी हिंसा उसे जीवन का सहज अंग सा प्रतीत होने लगती है. यह अनैतिक मूल्यों के साथ हिंसा के प्रभावों को भी ग्रहण करता चलता है.


पहले बच्चों का टीवी के आगे इतना ज्यादा exposure नहीं होता था. उस समय केवल, video games और multiplexes नहीं थे.फिल्मों में इतनी सेक्स और हिंसा नहीं होते थे. सामजिक बनावट और चलन के हिसाब को बच्चों को इन चीजों से दूर रखा जाता था, लेकिन आज स्थिति बिलकुल अलग है. आज किसी भी घर में प्रवेश कीजिये सामने एक बड़ा सा टीवी दिख जाएगा. बहुधा चलता हुआ टीवी और सोफे या कुर्सी में हाथ में रिमोट पकडे एक बच्चा. घर का पूरा माहौल टीवी के प्रभाव में जान पड़ता है. टीवी पर दिखाए गए हिंसापूर्ण और तथाकथित मनोरंजक कार्यक्रमों के दूरगामी परिणाम होते हैं.

वास्तव में ये बच्चों की पूरी सोच पर हावी हो जाते हैं. चूँकि यहाँ अपराध को प्रायः ग्लेमराइज किया जाता है, उसकी आलोचना नहीं की जाती इसलिए बच्चों का भोला मन उसे बुरा नहीं समझ पात…