Mar 19, 2014

मेरे शब्द

मेरे शब्द 

कुछ कहे 
कुछ अनकहे 

मेरे जज्बात 

कुछ भल  
कुछ अनभल 

मेरे गीत 

कुछ सरस 
कुछ नीरस 

मेरे सपने 

सिर्फ तुम 
सिर्फ तुम !

No comments:

Post a Comment