जीवन - कहाँ ?


तन विकलांग
मन विकलांग
धन विकलांग
तुम, मैं या वह ?
तन अतृप्त
मन अतृप्त
धन अतृप्त
स्थूल, सूक्ष्म या बाहय ?
तन विपन्न
मन विपन्न
धन विपन्न
दैहिक, दैविक, या भौतिक ?
तन रूग्ण
मन रूग्ण
धन रूग्ण
गाँव, नगर या राष्ट्र ?
तन मलिन
मन मलिन
धन मलिन
परमाणु, अणु या संसार ?
तन बुलन्द
मन बुलन्द
धन बुलन्द
आशा, जीवन या सृषिट ?
                           - पंकज कुमार

Comments

Popular posts from this blog

तेल मालिश सही पोषण के लिए बहुत जरुरी!

देशाटन से लाभ