Dularpur Darshan -21

Arun Praksh ( अरुण प्रकाश )




जन्म : 22फरवरी 1948 में बेगूसराय (बिहार) जिला के निपनियां गाँव में।
शिक्षा : स्नातप्रबंध विज्ञान और पत्रकारिता में स्नातकोत्तर डिप्लोमा।
प्रकाशित कृतियाँ : कहानी-संग्रह : भैया एक्सप्रेस,जलप्रांतरमँझधारकिनारेउस रात का दुःख, लाखों के बोल सहे,विषम राग आदि...
आलोचना : गद्य की पहचान 
उपन्यास : कोंपल कथा
कविता-संकलन : रक्त के बारे में
अनुवाद : अंग्रेजी से हिंदी में विभिन्न विषयों की आठ पुस्तकों के अनुवाद।
अनुभव : अखबारों व पत्रिकाओं कासंपादन। खासकरसाहित्य अकादमी की पत्रिका'समकालीन भारतीय साहित्य' का कई  वर्षों तक संपादन।कई  धारावाहिकों,वृत्त चित्रों तथा टेली-फिल्मों के लिए लेखन से संबद्ध रहे, कई स्तंभों के लिए भीलेखन। प्राय: एक दशक  से कथा-समीक्षा और कथेतर-गद्यों की आलोचना में सक्रीय थे। अनेक  राष्ट्रीय स्तर की संगोष्ठियों में सहभागिता।
सम्मान : साहित्यकार सम्मानहिंदी अकादमीदिल्ली, कृति पुरस्कार, हिंदी अकादमीदिल्लीरेणु पुरस्कारबिहार शासनदिनकर सम्मानसुभाष चन्द्र बोस था-सम्मान, कृष्ण प्रताप स्मृति कथा पुरस्कार सहित कई सम्मानों से सम्मानित।
निधन : 18 जून 2012 को नई दिल्ली के पटेल चेस्ट अस्पताल में दिन के लगभग एक बजे उनहोंने अंतिम सांस ली
उनका अंतिम-संस्कार उसी दिन शाम साढ़े छः बजे लोदी रोड में हुआ




Comments

Popular posts from this blog

तेल मालिश सही पोषण के लिए बहुत जरुरी!

देशाटन से लाभ