Dularpur Darshan-16


कथाकार अरुण प्रकाश का लंबी बीमारी के बाद निधन


नई दिल्ली।।18 June 2012 हिन्दी के जाने-माने कथाकार अरुण प्रकाश का सोमवार को लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया। वह करीब 64 वर्ष के थे।

बेगुसराय का एक रत्न अरुण प्रकाश अब हमारे बीच नहीं रहे 


सूत्रों ने बताया कि प्रकाश का सोमवार को दोपहर करीब एक बजे दिल्ली के पटेल चेस्ट अस्पताल में निधन हो गया। वह यहां काफी लंबे समय से सांस की बीमारी का इलाज करा रहे थे। अरुण प्रकाश का जन्म 18 जुलाई 1948 को बेगूसराय (बिहार) के निपनिया  गांव में हुआ था। उनके परिवार में पत्नी, एक बेटी और एक बेटा है। प्रकाश को बतौर कथाकार 'भइया एक्सप्रेस' से पहचान मिली। उनकी प्रमुख रचनाओं में 'मझधार किनारे', 'जलप्रांतर', 'विषमराग' और 'लाखों के बोल सहे' (कहानी संग्रह), 'कोपल कथा' (उपन्यास), 'रात के बारे में' (काव्य संग्रह) और 'हिन्दी के प्रहरी रामविलास शर्मा' (आलोचना) शामिल हैं।

अरुण प्रकाश ने दूरदर्शन की बहुचर्चित टीवी सांस्कृतिक पत्रिका 'परख' के करीब 450 एपिसोड लिखे थे और वह साहित्य अकादमी की साहित्यिक पत्रिका 'समकालीन भारतीय साहित्य' के संपादक रहे। उन्हें कई साहित्यिक पुरस्कारों से भी सम्मानित किया गया था। भगवन उनकी आत्मा को शांति दें ।

Comments

Popular posts from this blog

तेल मालिश सही पोषण के लिए बहुत जरुरी!

देशाटन से लाभ