दुलारपुर दर्शन - 5

दुलारपुर मठ (DULARPUR MATH)
दुलारपुर का अपना गौरवशाली इतिहास रहा है। वस्तुतः दुलारपुर के इतनी प्रसिद्धि  में दुलारपुर मठ की अहं भूमिका रही है। जहाँ एक ओर दुलारपुर मठ अध्यात्म, धर्म  और ज्योतिष विद्या का प्रमुख केन्द्र एवं प्रचार स्थल रहा है वहीं दूसरी ओर धर्मंनिरपेक्ष भावनाओं का भी प्रवाहस्थल रहा  है। अतीत से वर्तमान तक दुलारपुर मठ दान स्थल और सामाजिक न्याय का केन्द्र बिन्दु रहा है। दुलारपुर मठ के चारों तरफ मठ की ही देखरेख में, संरक्षण में विभिन्न छोटी-छोटी जातियों का भरण पोषण होते आया है। सबों में आपसी सौहाद्र एवं एका की भावना दुलारपुर मठ की सबसे बड़ी उपलब्धि है। अतः दुलारपुर मठ का इतिहास जाने वगैर दुलारपुर ग्राम का इतिहास अधुरा  साबित होगा।
दुलारपुर मठ - एक प्रसिद्ध आध्यात्मिक एवं  सांस्कृतिक केंद्र

दुलारपुर मठ संन्यासियों का प्रमुख धर्मं स्थल रहा है। यहाँ के महंथ का उपनाम भारती हैं। देवी के ब्रह्माण्ड से पूरी, ललाट से भारती, जिह्वा से सरस्वती, वाहु से गिरि, पर्वत, सागर एवं कुक्षि से बन एवं अरण्यं उपनाम वाले संन्यासियों की उत्पत्ति मानी जाती है। भारती दक्षिण के अवस्थित श्रृंगेरीमठ के संन्यासी, पुरी, भारती और सरस्वती उपनामवाले संन्यासी का सबसे बड़ा धर्मंस्थल श्रृंगेरी मठ है।। इनका सम्प्रदाय भूरवार, देवता-आदिवराह, देवी- कामख्या देवी, वेद-यजुरवेद, गोत्र-भु-भुवः, तथा आचार्य-पृथ्वीध्राचार्य हैं। इनमे व्रह्मचारी को चैतन्य कहा जाता है। संन्यासियों के सात अखाड़ा होते है।     १. पंथनिरंजनी  २.पंचअटल  ३.पंचमहानिर्वाणी ; ४. पंचजूना      ५.पंचआनन्द  ६.पंचआवाहन     ७. पंचअग्नि ।
दुलारपुरमठ मंचमहानिर्वाणी अखाड़ा का मठ है। भारती उपनामधरी संन्यासियों की चार मठी हैं। १. मुकुन्द भारती २. नृसिंहभारती ३. पदम्नाभभारती  ४. बालविषय नाथ भारती । दुलारपुर मठ मनकुकुन्द भारती के मढ़ी के अन्तर्गत है। इस तरह की मढ़ी एवं अखाड़ा का निर्माण भारत के सभी मठों को एक सूत्र एवं धारा में लाने के लिये किया गया।
स्थापना - शाम का समय। सूर्य अस्ताचल में  जाने-जाने को था। सूर्य प्रकाश की लालिमा को चीरता हुआ एक गौरवपूर्ण संन्यासी गंगा के किनारा को हुआ आगे बढ़ रहा था। सहसा गंगा के किनारे में ही वह पलथी लगाकर बैठ जाता है और ‘ॐ ’ का जयकार  प्रांरभ कर देता है। हाथ में त्रिशूल और तन पर लंगोटी के अलावा कुछ भी नहीं हैं उसके पास। वे हठ योग प्रारंभ कर देते हैं। कई दिनों तक वे एक ही मुद्रा  में आसन लगाकर बैठे रहते हैं। उसके  बाद जमीन खोदकर सुरंग बनाकर रहने लगते हैं।
 वे वहीं घुनी लगाकर रहने लगे तथा गंगा स्नान करने लगे।  गांव के लोग भी प्रातः काल गंगा स्नान करने जाते तो बाबा को योग  मुद्रा में ध्यानरत देखते थे। उनकी चर्चा धीरे - धीरे  सब जगह होने लगी। गाँव के लोग भी बाबा के दर्शनार्थ जाने लगे। इस प्रकार दुलारपुर गांव के लोगों से बाबा को काफी स्नेह हो गया। एक दिन बाबा ने अपनी इच्छा प्रकट की। अगर हमें यहाँ थोड़ी-जमीन मिल जाय तो अपना आश्रम बना लूँ, परंतू गांव के लोगों ने इसका विरोध् किया कि गाँव में संन्यासी का रहना ठीक नहीं।
इससे हमारे गाँव के श्री एवं संस्कार पर प्रभाव पड़ेगा। खैर, बाबा एक धुनीरत हठयोगी, संन्यासी बनकर ही रहने लगे।
एक दिन की बात है। नवाब गौहरअली खान का एक बड़ा नाव माल-असबाब से लदा हुआ जा रहा था। शाम हो जाने की वजह से नाव पर सवार लोगों ने नाव किनारे लगाकर वहीं रात्रि विश्राम करने लगे। पुनः सुबह जब से लोग जाने को तैयार हुए तो नाव पानी में आगे बढ़ता ही नहीं था। लगता था मानों नाव किनारे की जमीन से चिपक गया हो। इस
प्रकार वह नाव लगभग पन्द्रह दिनों तक उसी प्रकर किनारे में लगा रहा। दुलारपुर के लोगों ने भी काफी प्रयास किया कि नवाव गौहर लगी खान का नाव के किनारे से छूट जाये पर ऐसा संभव नहीं हो सका। सभी लोग निराश हो गये। एक दिन एक गांव को ही युवक, बाबा के समीप गया और उनसे कहा- बाबा, इस पर दया कीजिए और इसका नाव तट से छुडा दीजिये। बाबा के हँसते हुए कहा-अगर नाव छुड़ा दूगाँ तो क्या तुम्हारे गाँव वाले यहाँ मन्दिर बनाने देगें। यह बात सब जगह फैल गयी कि बाबा का ऐसा ऐसा शर्त है। अगर हम लोग उनके शर्त को पूरा कर देंगे तो बाबा नाव अकेले ही तट से छुड़ा देंगे। कुछ उच्छृखंल लोगों ने बाबा का मजाक ने भी कहा कि अगर बाबा ऐसा कर दें तो मंदिर मै बनबा दूगाँ। दूसरे दिन सुबह में बाबा ने अपने सारे वस्त्र खोल दिये। और कहा जाता है उन्होंने उतनी बड़ी नाव के जंजीर तो अपने  कमर  मे बांध कर नाव को एक ही झटके में तट से छुड़ा दिया। सभी लोग बाबा में बल का लोहा मान गये। उनका नाम योगभारती था। ऐसे हठयोगी होने के कारण लोग उन्हें हठीनाथ भी कहते थे।
श्री योगभारतीः- जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है कि योगभारती योग पारंग थे। योगागम के अच्छे ज्ञाता है। उनकी इस अद्वुत  घटना से प्रभावित होकर दुलारपुर गाँव के लोगों को उनके बल का पता चला। सभी लोग उनका महिमागान कर रहे थे। मठ बनाने के लिए जमीन उपलब्ध् कराई गई। जो गाँव से पूरब था। मठ की खेती के लिए 61बीघा जमीन दी गई।
51 बीघा जागीर क्षेत्र में  तथा  10 बीघा महमदपुर फत्ता क्षेत्र में। इस प्रकार दुलारपुर मठ की स्थापना श्री योगभारती ने ग्रामीणों के सहयोग से की। ग्रामीणों ने विधिवत मठाधीश की पगड़ी श्री योगभारती को दी।  नवाब गोहरअली खान ने भी  मठ को कुछ जमीन दी थी। नरहन स्टेट की महारानी विश्वेश्वरी कुँवरी को पुत्र नहीं होता था। योगभारती जी के आशीर्वाद से उन्हें पुत्र रत्न प्राप्त हुआ। तब उन्होंने दान स्वरूप जमीन धरम पुर एवं जगदीशपुर, थाना सरायरंजन जि॰ समस्तीपुर में दिया। यहीं से दुलारपुर मठ का गौरवशाली इतिहास प्रारंभ हुआ। मठ में पुजारी की व्यवस्था कर वे योगमाया से पूर्णिया  जंगल में प्रकट हो गये और हठयोग करने लगे। बाबा यहाँ धुनी की अग्नि में अष्टधातु  का लंगोट रखकर नदी में स्नान करने जाते थे। और स्नान से वापस आकर धुनी से लाल  तप्त लंगोट निकालकर पहन लेते थे और हठ योग करते थे। यहाँ के लोग योगभारती को हठीनाथ के नाम से जानते हैं। एक दिन बाबा के स्नान के समय नवाब सौकतअली का हाथी पीलवान घाट पर से गया और बाबा के साथ बदतमीजी की।
बाबा ने क्रोधित  होकर हाथी का दोनो दाँत उखाड़ लिया। समाचार पाकर नवाब शौकत अली के बाबा का बहादुरी की संज्ञा देकर इनाम के मांस का भाड़ भेजा लेकिन भाड़ वापस जाकर मोती चूर का लड्डू बन गया। नवाब ने बाबा से माफी मांगी और यहाँ का जंगल बाबा को दान कर दिया। बाबा योगभारती ने यहीं पर माता पूर्ण देवी को स्थापित कर दिया। पूर्णियाँ जिला इसी माँ पूर्ण देवी ने नाम पर बना है। जब लोगों का वहाँ भी आवागमन बढ़ गया तो बाबा हठी नाथ (योगभारती) ने अपना शिष्य , हठी लंगोट और हाथी दाँत का सिंहासन वहीं छोड़कर  कटक चले गये। कटक से वापस आकर वे नेपाल के जंगल में चतरा नामक स्थान पर पहुचे । यह स्थान चतरा गद्दी के नाम से विख्यात हो गया ‍ यहाँ बाबा गुद्ड़ी योग करने लगे। कहा जाता है कि एक बार नेपाल महाराज बाबा योगभारती से मिलने गये। उस समय  बाबा बीमार थे।  उस समय बाबा बीमार थे। अतः उन्होंने महाराज को कहला भेजा कि दो घंटे बाद मै  ठीक हो जाऊँगा तब भेंट करूँगा कहा जाता है कि उन्होंने अपनी गुदड़ी रूपी वस्त्र उतार दिया और स्वस्थ होकर नेपाल महाराज से बातचीत की। इस घटना को देखकर नेपाल महाराज काफी आश्चर्यचकित हो गये। तब बाबा ने कहा-बीमार शरीर को ठीक करने के लिए तप करने से अच्छा तो लोक कल्याण ने लिए तप किया जाय। सांसारिक कपट को झेलना तो विधि का विधन है। उसे तो सबों को झेलना पड़ता है। परंतु कुछ समय के लिए इससे त्राण पाकर आपसे बातचीत कर लिया। यही काफी है। वस्तुतः यह उनके  सिदधि का फल था। महाराज ने बाबा का यह चमत्कार देखकर १४  कोस का जंगल दान में दे दिया। चतरा नेपाल गद्दी से तीन कोस उत्तर वराह क्षेत्र है। यहीं मनमुकुन्द भारती नाम से एक संत थे। जनश्रुति है कि उन्होंने अपने तप - बल से सखुआ के पेड़ में आम का फल लगा दिया था। बाबा योग भारती और बाबा हंस भारती महंथ बालमुंकुद भारती के शिष्य  थे।
श्री हंसराज भारतीः- हंसराज भारती हंस सिदधि प्राप्त थे। भेजा मठ के संस्थापक हंस भारती ही थे। हंसभारती बाबा योगभारती ने गुरु  भाई थे। परंतु योगभारती उनसे उम्र में काफी बड़े थे। एक बार भेजा जंगल में हंसराज भारती तपस्या कर रहे थे। उधर  से ही 151 डाला का भार जा रहा  था।  भारवाहक डाला इसलिए ले जा रहे थे कि हिम्मतसिंह की शादी नेपाल महाराज के परिवार हुआ था। भार वाहक लोगों ने शांति पूवक तप कर रहे हंस भारती को तंग करने लगे और उनकी समाधि भंग करने की कोशिश करने लगे। बाबा ने उन्हें मना किया। लेकिन एक भारवाहक ने कहा, तुम्हारे मुँह में इसी टोकरी का मछली ठूस दूँगा। बाबा क्रोधित  हो गए और उनकी सारी मछली निगल गए। जब वहाँ के राजा को यह बात पता चला। वह भागा-भागा आया, अनुनय विनय किया। बाबा ने सारी मछली पुनः उगल दिया। भीठ भगवानपुर के राजा हिम्मतसिंह ने 1760 ई॰ में भेजा में खजूरी मौजे में 24 बीघा जमीन मठ को दान स्वरूप दिया। खौरवपुर बरियारी के महाराज ने हंसराज भारती को लिज्जा मौजे दान मे दिया। योगभारती के बाद हंसराज भारती ने दुलारपुर मठ का सारा सम्हाल लिया। इनके  समय भी मठ ने काफी विकास किया।
3. मणिराम भारतीः- हंसराज भारती के बाद मणिराम भारती दुलारपुर मठ के महंथ बने। ये भेजा मठ का प्रवंधन  साथ की साथ देख रहे थे। वहाँ का भी लगान दुलारपुर मठ से ही प्राप्त होने लगा। मणिराम भारती के समय मे ही गंगा में कटाव प्रारंभ हुआ। मठ की भव्य इमारत, मंदिर, दानालय, भोजनालय आदि एवं दुलारपुर गाँव गंगा की गोद मे समा गई। कटाव के बाद मठ एवं गाँव दरियापुर (रामपुरगोपी ) में आकर बस गया। मठ का निर्माण कार्य पुनः आरंभ हुआ। मठ ‘बीचली’ में बनाया गया। कुछ वर्षों से ही मठ पुनः बनकर तैयार हो गया।
4. टीकमभारती- मणिराम भारती के बाद टीकमभारती मठ के महंथ बने। इनके  विषय में ज्यादा कुछ ज्ञात नहीं है। ये अल्पकाल के लिए मठ महंथ रहे होंगे-ऐसा प्रतीत होता है।
5.राम कृपालभारती- टीकमभारती के बाद राम कृपाल भारती को मठ महंथ बनाया गया। रामकृपाल भारती ने काफी ख्याति अर्जित की। उनके  आठ शिष्य हुए। प्रथम पांच हिंसक प्रवृति के और दुश्चरित्र थे। अतः रामकृपाल भारती के उन पांचों को मठ से निकाल दिया। उसके  बाद उनके तीन अन्य शिष्य-महापत भारती, रामचरण भारती और राम टहल भारती बचे। जब रामकृपालभारती काफी बूढ़े हो गए तो उन्होंने सभी ग्रामीणों को बुलाकर कहा कि अब हम कब हैं, नहीं हैं, कुछ ठीक नहीं है। प्रभु का कब बुलावा आ जाये। अतः अब मठ महंथ का चुनाव कर ही लिया जाय। लोगों ने उन्हे ही महंथ चुनने को कहा। उनके  चुने गए महंथ के नाम को ही मानने का सबने आश्वासन दिया। उन्होंने ब्राह्मण कुल मे जन्में रामचरण भारती का नाम प्रस्तावित किया। सभी लोगों ने अपनी सहमति दी लेकिन कुछ लोगों ने विरोध् भी किया वस्तुत कुछ लोग महापत भारती को महंथ बनाना चाहते थे। श्री कुंजविहारी सिंह महापत भारती के समर्थक थे। अतः उन्होंने रामकृपाल भारती के फैसले का विरोध् किया। फलतः उन्हे रामकृपाल भारती का कोपभाजन बनना पड़ा। वर्तमान में किशोरी शर्मा  कुंजबिहारी सिंह के परिवार के हैं।
श्री रामचरण भारती-श्री कृपाल भारती के बाद श्री रामचरण भारती मठाधीश  बने। रामटहल भारती को कोठारी बना दिया गया। कोठारी भंडार घर  के प्रवंधकर्ता को कहा जाता है। महापदभारती को भोजा मठ का महंथ नियुक्त कर दिया गया। भोजा में भी दुलारपुर मठ का काफी जमीन थी। महापदभारती लंगड़ा थे परंतु शरीर पहलवानों जैसा था। लोग उन्हें पहलवान महंथ भी कहते थे। चूंकि महापद भारती रामकृपाल भारती के शिष्य थे। अतः महापद भारती के पिता रामकृपाल भारती से अन्न-राशन मांगा करते थे। मठ दानाश्रम तो था ही, दान पुण्य के काफी कार्य होते थे। 

एक बार की बात है। महापद भारती के पिता रामचरण भारती से पूर्व महंथ श्री राम कृपाल भारती की तरह ही कुछ अन्न-दान  की  याचना की। चूँकि
महंथ चूनाव के समय महापद भारती के कारण ही रामचरण भारती के नाम का विरोध् हुआ। अतः दोनो महंथ यथा रामचरण भारती एवं भोजा के महंथ महापद भारती के बीच मधुर  संबंध् नहीं थे। लगता है कि इसी कारण से रामचरण भारती के महापद भारती ने पिता को मांगने पर भी अन्न नहीं दिया और उन्हें भला-बुरा कहा और कह  दिया कि- चले
आये है। मांगने जैसे उपजाकर रख गये। जाइये यह भीखमंगी हमारे यहाँ मत कीजिये, मांगना भी तो महापद से मांगने भोजा चले जाइये। महापद भारती के पिता तत्काल तो वहाँ से चले गये परंतु इस छोटी-सी घटना के दुलारपुर मठ के इतिहास को रक्तरंजित कर दिया।
जब महापद भारती के पिता भोजा जाकर अपने पुत्र महंथ को अपने साथ किये गये वर्ताव से अवगत कराया तो महापदभारती आग-बबूला हो गये। महापद भारती तुरन्त भोजा से (कसहा) मठ की ओर प्रस्थान कर गये। दुलारपुर मठ आकर उन्होंने बलपूर्वक  रामचरण भारती को पदच्युत कर दिया और रामटहल भारती    ( कोठार))  को महंथ बना दिया।

हालाँकि राम टहल भारती महंथ बनने में  आनाकानी कर रहे थे, तुरंत वे इस बात के लिए तैयार नहीं हुए थे। चूँकि रामचरण भारती को महंथ गांव के लोगों ने बनाया था। अतः गांव के अधिकांश  लोग रामचरण भारती के पक्षधर  हो गये। कुछ विरोधी  भी थे, जो महापद भारती के  पक्षधर हो गये। और  महापद भारती खेमे में जा मिले। इस प्रकार गांव के लोग भी दो खेमों में विभक्त हो गये। एक पक्ष रामचरण भारती के पक्ष तो दूसरा नाम  रामटहल भारती के पक्ष मे। रामटहल भारती के तरफ गांव के प्रमुख जमीदार मोती सिंह  भी थे। मोती सिंह 51पट्टी के थे। अतः लगभग सम्पूर्ण 51पट्टी उनकी तरफ ही होगा, ऐसा माना जा सकता है। रामचरण भारती के तरफ 80 और 32 पट्टी था। दोनो तरपफ से शीतयुद्ध  होने लगा फौजकाशी भी प्रारंभ हो गयी। 51पट्टी के मोती सिंह ने नौनपुर के अधम सिंह ( राजपूत ) को रामचरण भारती की तरफ से युद्ध  करने के लिये बुलाया। कहा जाता है कि  अधम  सिंह ने इस लड़ाई मे लड़ने का 1000.00 लिया था। 80 और 32 पट्टी की ओर से मधुरापुर  के रामभरोसी खलीफा एवं उनके  अन्य सात लठैत भाईयों को रामटहल भारती की ओर से लड़ाई में भाग लेने के लिए आमंत्रित किया गया था। जब  अधम सिंह नौनपुर से चलने लगा तो वह अपना  तलवार लेने लगा क्योंकि वह एक प्रख्यात तलवार बाज था। परंतु मोतीसिंह ने उसे यह कहकर तलवार लेने से रोक  दी कि बात लाठी से आगे  नहीं जायेगी। अतः तलवार की कोई आवश्यकता नही। दोनो तरफ के युयुत्सु वीर आमने सामने हुए, घमासान  लड़ाई हुई । अन्ततः अधम सिंह अकेला उन आठों भाईयों से जा भिड़ा    उन आठो भाइयों ने तलवार-युद्ध  प्रारंभ कर दिया। एक जबरदस्त बार उसके  गर्दन पर किया गया परतु बचाव करने के बाबजूद  तलवार उसके  नागोद से जा टकरायी। अधम  सिंह फुरती से उनके  वार को खाली करता गया। कहा जाता है कि तलवार की एक बार से अधम सिंह का नाक कट गया, उसके बावजूद वह  अपना बचाव करते हुए भागने से सफल हो गया। उस लड़ाई में 80 और 32 पट्टी की ही विजय हुई , पुनः रामचरण भारती ही महंथ बने और रामटहल कोठारी। लेकिन होनी होके ही रहती है।
51 पट्टी के मोती 1400 बीघा जमीन दियारा मे और 300 बीघा वर्तमान के नयानगर-ताजपुर आधार पुर क्षेत्र में, मालिक थे। एक दिन के लगभग दस बारह आदमी दियारा जा रहे थे। पास के ही किसी खेत में 80 पट्टी के  कुछ आदमी थे। उन्होंने जब मोती सिंह को जाते देखा तो  व्यंग्य किया कि - देखा जी, कैसे नाक कटी जमीदार साहब की। रामचरण भारती से टकराने का अंजाम देख लिया ना। इस व्यंग्य का असंर मोती सिंह पर इतना पड़ा कि उन्होंने चरण भारती को अपदस्थ करने के लिए पुनः अधम सिंह  से सम्पर्क स्थापित किया।  अधम सिंह   ने शर्त दी कि आप पहले मधुरापुर  वाले आठो भाईयों को या तो अपने तरफ मिला लीजिये या उनकी तरफ नहीं आने पर राजी कर लीजिए, तब मैं जा सकता हूँ मोती सिंह रामटहल भारती और महापद्भारती से मिलकर योजना बनाना प्रारंभ कर दिया। वे  मधुरापुर  भी गये। पहले तो उन आठ भाईयों ने आना-कानी की, परंतु मोती सिंह की लक्ष्मी के सामने वे सभी परास्त हो गये। मोती सिंह उन्हें मुँहमाँगी रकम देने को तैयार थे। उन आठों ने विचार करके  कहा कि देखिये मोती बाबू- अगर आपके  रामटहल भारती महंथ बन गये तो हमें सुल्तानपुर से सेउनार मंदिर के बीच 200 बीघा जमीन और 5000.00 रूपया देना पडे़गा इससे जमीन मठ को ही देना पड़ता क्योंकि मठ का काफी जमीन इस क्षेत्र में था। पुनः लड़ाई हुई । इस एकाएक हुए लड़ाई में 80 और 32 पट्टी को संगठित होने का मौका नहीं मिल सका। उनकी तरफ से वैसा कोई नामी-गिरामी योदधा नहीं था। उन लोगों  ने जिस के बल पर अपनी प्रथम लड़ाई जीती थी, आज वह भी उनके विरूद्ध  ही था। अतः एकतरफा लड़ाई हुई । 80 और 32 पट्टी की तरफ से कुछ जांबाज लोगो ने लड़ाई में भाग लिया। तरन्तु वे टिक न सके। लड़ाई  का बहुत ही नाकिस परिणाम निकला। 80 और 32 पट्टी या रामचरण भारती पक्ष के तीन लोगों की मृत्यु तुरन्त हो गई, और कुछ अन्य जख्मी हो गये। बात बिगड़ गई थी। अतः अधम सिंह और आठ मधुरापुर के लठैतों ने विचार किया कि तीन-तीन खून हो गया। अतः अब जमीन क्या मिलेगा।
इससे अच्छा चलो  मठ के खजाने को ही लूट लिया जाय, जो ही मिल जाय। सबों के मठ पर धवा बोल दिया। उनका मामूली विरोध् हुआ फिर  भी वे मठ लूटने में सफल हो गये। उन लोगों ने जी भरकर लूट-पाट की और सोना- चाँदी, हीरा आदि बहुमूल्य चीजे लूट ली। पुलिस भी आयी, परंतु वे लोग भागने में सफल हो गये। तीन मृतक में एक वर्तमान विसोआ (भु ल्लु), रामदेव के घर का और दो आधारपुर का था।
6. श्री रामटहलभारती- जब मामला शांत हुआ तब भी रामटहल भारती महंथ बने। मृतक परिवार के लोगों को मठ में ही नौकरी दी गई। जो परम्परा अभी तक वर्तमान है। रामटहल भारती केवल तीन वर्ष तक महंथ रहे।
7. श्री चतुर्भुज भारती- रामटहल भारती के निधन  के बाद उनके  शिष्य श्री चतुर्भुज  भारती के मठ महंथ बने। चतुर्भुज  भारती के समय में ही दुलारपुर में राधेदासजी नाम के महात्मा आये थे।  चतुर्भुज  भारती के समय में मठ का काफी विकासर हुआ।  चतुर्भुज  भारती के अपने व्यक्तित्व, ज्ञान एवं उदारनीति रूपी मरहम से पिछले सारे घाव को भर दिया था। उनके समय मठ की आमदनी का एक बड़ा स्रोत नाव की चुंगी  वसूलना था। गंगा नदी का ठेका मठ को ही प्राप्त था। मठ के साथ-साथ गाँव काफी खुशहाल था। परंतु मनुष्य तो प्रकृति का दास है। 1879 ई॰ मे कटाव में मठ का आलीशान भवन, ऊँचे -ऊँचे  विशाल मंदिर कटकर गिर गये कहा जाता है कि चाँदी  के रूपयों से भरी कलशी कटाव में गिरती थी तो झनक झनक की आवाज होती थी। इस तरह 1879 ई0 का कटाव काफी त्रासदपूर्ण था। उस कटाव के बाद ही दुलारपुर मठ को  श्री  चतुर्भुज  भारती द्वारा वर्तमान स्थान  पर लाया गया। मठ का निर्माण कार्य प्रारंभ हुआ।
8. श्री गुरु  चरण भारती- चतुर्भुज  भारती के शिष्य श्री गुरु चरण भारती को मठ महंथ बनाया गया।  गुरु चरण  भारती काफी सिद्ध पुरुष एवं  साधक थे । परतु वे आंख से काना थे। उनके  समय से ही वर्तमान मठ का निर्माण विशाल पैमाने पर किया गया। विशाल एंव भव्य मंदिर बनाया गया। वे तंत्र विद्या  के भी अच्छे ज्ञाता थे। एक बार की बात है। एक अन्य महंथ उनसे मिलने मठ में आया। वह अपना खड़ाउ पहने ही परिपाटी का उल्लंघन करते हुए भीतर मठ के प्रांगण में चला गया। जब खड़ाउ खोलकर वे अपनी आसनी पर बैठे तो  गुरु चरण  भारती ने अपने तंत्र विद्या  से दोनो खड़ाउ को दो कबूतर बनाकर उड़ा दिया। आसानी उनके  शरीर से चिपक गई। जब उसने उनसे माफी मांगी तब आसनी उनके शरीर से अलग हुआ   गुरु चरण  भारती ने अपना शिष्य भयकरण को बनाया, जिसे वे अगला महंथ बनाना चाहते थे। परंतु वह महंथ बनना ही नहीं चाहता था। अतः गाँव के लोगों ने उनसे यह लिखवा कर कि मै महंथ नहीं बनना चाहता हूँ जिला मुख्यालय मुंगेर  में जमा करवा दिया।  वह कोठारी ही बनाना चाहता था।
9. श्री प्रभुचरण भारती- श्री  गुरु चरण भारती की अचानक मृत्यु के बाद उनके  शिष्य प्रभुचरण भारती को महंथ बनाया गया। कहा जाता है कि किसी ने उन्हें विष दे दी थी। जिसके  कारण उनकी मृत्यु हुई थी। प्रभुचरण भारती काफी व्यक्तित्व वाले महंथ थे। उन्होंने मठ के बाहर अपने रहने के लिए एक अलग मकान बनवाया। सौ-दो सौ संन्यासी हर समय मठ में रहा करते थे। 12 बजे दिन और 12 बजे रात में भंडारा होता था। मठ में लगभग सौ सिपाही नियुक्त था। महंथ जी ने मिलने आये अंग्रेज  सरकार के बड़े-बड़े अधिकारियों को भी काफी इन्तजार करना पड़ता है। बिहार के  प्रथम मुख्यमंत्री  श्री कृष्ण  सिंह को भी महंथ जी से भेट करने के लिए तीन घंटा इंतजार करना पड़ा था। प्रतिदिन 12 मन अन्न दान किया जाता था। मठ के चारों तरफ मठ की रैयत बसी थी। प्रभुचरण भारती अपनी दानशीलता के लिए चर्चित थे । भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान डा. राजेन्द्र    प्रसाद का आगमन दुलारपुर मठ मे हुआ। प्रभुचरण भारती ने 5000 रूपए चंदे में दिया था।
उन्होंने बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के निर्माण में भी चंदा दिया था। सुलतानगंज से आगे देवघर  के रास्ते में प्रभुचरण भारती के नाम पर एक मध्य विद्यालय  उनकी दानशीलता को दिखाता है। वैशाली जिला के चेयर गाँव में उन्होंने एक पुस्तकालय खोला। धर्मदा  ने उन्हें धर्मं मनीषी की उपाधि से  विभूषित किया। वे संस्कृत, फारसी और अग्रेंजी के अच्छे ज्ञाता है। 
10. श्री शिवचरण भारती- श्री प्रभुचरण भारती ने अपना शिष्य, अपने भतीजे भी शिवचरण भारती (डीहा निवासी ) को बनाया। जो 1945 ई॰ में दुलारपुर मठ के महंथ बने। श्री शिव चरण भारती ने पूर्व महंथ की स्मृति मे मठ परिसर के बगल में ही श्री प्रभुचरण मध्य विधलय दुलारपुर मठ की स्थापना 1948 ई॰ में की।
11. श्री हरिहर चरण भारती- शिवचरण भारती के बाद श्री हरिहरचरण भारती 4 जून 1966 को दुलारपुर के महंथ बने। यह अभी वर्तमान महंथ हैं।
दुलारपुर मठ के दान देने वालों की सूची
दाता का नाम                   दान प्राप्त कर्ता      दान स्वरूप                        वर्ष (ई॰)में
1. श्री रघुनन्दन हरि सिंह  राजेन्द्र भारती   4 बीघा जमीन         1746 ई॰ एवम् अन्य ;सुल्तानपुर घाट होद्ध
2. महाराज श्री नरेन्द्र सिंह ,भगवान पुर    श्री हंस भारती                   भेजा में 51 बीघा जमीन 1754 ई॰
3. महाराज श्री हिम्मत सिंह, खजूरी      महंथ श्री हंसराज भारती            खजूरी में 24 बीघा जमीन 1760 ई॰
4. श्री चैध्री गुलाम अली      श्री हंसराज भारती    रसूलपूर मकदूम 1760 ई॰ महराजी दियारा  51बीघा जमीन
5. महाराज श्री प्रताप सिंह  महंथ श्री हंसराज भारती रूसेरा में        51;51द्ध 1761 ई॰ बीघा जमीन
6. महाराज श्री प्रताप सिंह ;बहादुर    महंथ श्री हंसराज भारती              भेजा में 30 बीघा जमीन 1769 ई॰
7. महाराज श्री नवनिध् सिंह ;भेजा       बेचूदास और बाद में सुराहा में 7 बीघा जमीन 1782 ई॰ श्री हंसराज
8. महाराज श्री नवनिध् सिंह ;भेजा  भारती को स्थानान्तरित 5 बीघा 1783 ई॰
9. श्री सबूरी राय एवं अन्य             श्री हंसराज भारती                     रूपसबाज में 5 बीघा 1790 ई॰ जमीन
10. श्री सर्वजीत सिंह एवं उमराव सिंह   संह श्री मणिराम भारती मुसापुर और मानिकपुर 1792 ई॰ में 200बीघा
11. श्री उमराव सिंह बेचदास एवं उनसे   5 बीघा जमीन 1794 ई॰
12. राजा नवनिध् सिंह श्री हंसराज भारती 5 बीध जमीन               1702 ई॰ कुल जमीन
                                                                                                 401 बीघा जमीन
दुलारपुर मठ  के कचहरी का भग्नावशेष


Comments

Popular posts from this blog

तेल मालिश सही पोषण के लिए बहुत जरुरी!

देशाटन से लाभ