Posts

Gram Panchayat Raj Nayanagar Dularpur Raatgaon Aadharpur

ग्राम पंचायत राज नयानगर, दुलारपुर, रातगाँव, आधारपुर मुखिया और सरपंच सूची 

दुलारपुर- आधारपुर पंचायत 

1. रामफल सिंह               निर्विरोध        मुखिया १९५२ 
    देवनारायण सिंह     मनोनीत       सरपंच १९५२ 

2.  देवनारायण सिंह    -     मुखिया १९५७ 
    उपेन्द्र कुंवर                 -            सरपंच  १९५७ 

3. देवनारायण सिंह    -    मुखिया         १९६२
      उपेन्द्र कुंवर        -  सरपंच     १९६२

4. रामचंद्र कुंवर       - मुखिया         १९७१
    राजेंद्र प्रसाद सिंह    - सरपंच         १९७१ (बाद में विधायक बने)

५. रामचंद्र कुंवर           -       मुखिया १९७९
   भूपेंद्र बिहारी मिश्र         - सरपंच १९७९ 

नयानगर (दुलारपुर) पंचायत 


1.  राजेंद्र प्रसाद सिंह  -          मुखिया  १९७९ (बाद में विधायक बने)
      बबन सिंह     -                  सरपंच १९७९  

रातगाँव पंचायत 

1. सुनील कुमार सिंह भुल्लू -          मुखिया         २००१ 

2. रीता देवी        -           मुखिया         २००६ 
    रंजीत कुमार सिंह   -            सरपंच         २००६ 

3. रीता देवी        -           मुखिया         २०११  
राकेश चौधरी (महंथ)  - …

Space Walk Dream #ColgateMagicalStories

Image
स्पेस या अन्तरिक्ष के किस्से हमेशा से लोकप्रिय और मनोरंजक होते हैं. जब से टीवी में बच्चों के लिए तरह -तरह के सीरियल आदि आने लगे हैं, तब से बच्चों की कल्पना की उड़ान नयी- नयी चीजें सोचनी शुरू कर दी है. भूत-प्रेत, जादू -टोना और राजा -रानी की कहानियों के अलावे भी बहुत ऐसे क्षेत्र हैं जहाँ बच्चे बहुत बेहतर सोच और ज्ञान रखते हैं.

जब से कोलगेट ने अपना सैंपल भेजा है, और मेरा बेटा आशु ने जबसे उसके सभी चरित्र को देखा है उसने कई कहानियां बना डाली. हर बार कुछ न कुछ नया. मैं उसके द्वारा सुनाई गयी एक मैजिकल स्टोरी यहाँ share करने जा रही हूं.

" मम्मा! रात को मैंने सपने में देखा कि मेरा और मेरी दोस्त ज्योत्सना का चयन स्पेस वाक के लिए हुआ है. कुछ दिनों के ट्रेनिंग के बाद मुझे और मेरी दोस्त को satellite में बैठकर स्पेस में भेजे जाने का प्रोग्राम था. मुझे यह बताया गया कि किस तरह से satellite द्वारा हम दोनों को इंटरनेशनल स्पेस सेंटर तक भेजा जाएगा. हमारा खाना tube में रहेगा, जैसे कोलगेट टूथपेस्ट होता है. हमें जीरो गुरुत्वाकर्षण के बारे में बताया गया और उसमें एक स्थान से दूसरे स्थान तक कैसे जाना है, उस…

रिश्तों को ख़त्म कर रहा है मोबाइल फ़ोन

Image
इसमें कोई दो राय नहीं है कि मोबाइल फ़ोन या टेबलेट जैसे आधुनिक यन्त्र हमारी जरुरत बन गए हैं. लेकिन कही ये हमारे रिश्तों को खतम तो नहीं कर रहे हैं.
मैं अपने एक जाननेवाले के यहाँ गयी. वहां तीन लोग थे. तीनों ने आपस में इशारों से हाय हेलो किया और फिर लग  गए अपने अपने मोबाइल फ़ोन में. कोई 15 -20 मिनट तक शायद ही किसी से किसी से बात की हो. मैं तो आश्चर्य में थी. यह हो क्या रहा है? आखिर ये लोग मोबाइल से चिपके क्यों हैं?

दूसरी बार एक रेस्टोरेंट में गयी. मेरे सामने वाली टेबल पर एक पति पत्नी बैठे थे. बेटर आया और उन लोगों से आर्डर ले गया. आर्डर ले जाने से खाना लाने तक का समय कैसा बिताया उन दोनों ने. पति अपने टेबलेट पर गेम खेलते रहे और पत्नी अपने फ़ोन से किसी से बात में लगी रही. यह देखकर बहुत ही अजीब लगा कि आखिर मोबाइल फ़ोन और आधुनिक उपकरणों ने हमसे आपस में बात करना तक छीन लिया है.
आपने भी बहुत सारे ऐसे अवसर देखें होंगे जहाँ लोग मोबाइल में लगे रहते हैं. आखिर इससे हमारे रिश्ते भी तो प्रभावित होते हैं. कई बार आपस में बात करने से लोगों का तनाव दूर होता है. हम एक दूसरे को समझते हैं और उनके साथ हमारा सरोका…

A Letter to Life #DearZindagi Activity

Image
“I am writing a letter to life for the #DearZindagiactivity at BlogAdda“.
डियर  ज़िन्दगी

सबसे पहले तो मैं तुझे अपने में मुझे बनाये रखने और अपनी साँसों को मेरी सांसों में समाये - बनाये रखने के लिए बहुत – बहुत धन्यवाद देती हूँ. तू है तो मैं हूँ, जो तू नहीं तो कुछ भी नहीं. मैं यह पत्र इसलिए लिख रही हूँ ताकि मैं तुम्हें यह बता सकूँ कि मैं तुम्हें अपने में पाकर कैसा महसूस कर रही हूँ.

तुम्हारे कितने रूप हैं. कुछ ऐसे पल होते हैं जिनको याद कर मैं बहुत खुश हो जाती हूँ, कुछ लम्हे ऐसे भी हैं, जो आज भी याद आती हैं तो रोम-रोम पुलकित हो जाती हैं. कुछ पल उदास भी कर जाती हैं. यदि मैं उन लम्हों का लेखा-जोखा तैयार करूँ तो एक ग्रन्थ तैयार हो जाए.

आज मैं इस पत्र में उन सुखद एहसासों का जिक्र करना चाहूंगी जिसने मुझे जीने के नए मायने दिए हैं.
बचपन की वो यादें आजतक मैंने बहुत ही सहेज कर रखी हैं. जब मैं अपने बाबुल के आँगन में फुदकती रहती थी. प्यार और दुलार से सराबोर तुम न जाने कब मुझे यौवन की दहलीज पर लाकर छोड़ दिया.

यौवन का एहसास आते ही मन रोमांचित हो उठता है. पढाई-लिखाई के साथ साथ साजन की बातें, प्यार – मोहब्…

Dhruv Jaisi Siddhi ध्रुव जैसी सिद्धि

Image
हमारे देश में कई वीर और विशिष्ट बालक हुए हैं. जैसे  अर्जुन, एकलव्य,प्रहलाद आदि. ये बालक अपने लक्ष्य को पाने हेतु किये गए प्रयासों के लिए आज हमारे लिए दृष्टांत बन गए हैं. ध्रुव  की साधना तथा लक्ष्य सिद्धि की कथा बहुत ही प्रेरणादायक है.


ध्रुव के जीवन चरित्र को लेकर श्री चन्द्रशेखर पाण्डेय ‘चन्द्र्मणी’जी ने बड़ी ही सुंदर कविता लिखी है. जिसे कल्याण के बालक अंक में छपा गया है. मैंने चन्द्रमणि जी की कविता साभार लिया है. यह कविता इस प्रकार है -

(1) “जन्म ही हुआ था जिसका तपोवनों के बीच, वनवासियों ने  सूतिका - गृह   संवारा था शीतल-सुगंध-मंद  मलय    समीर   द्वारा दोलित   लताओं   ने  समोद पुचकारा था यद्दपि   न  पाया  मोद   पितृ   गोद   का, परन्तु माता करूणामयी ने प्रेम से दुलारा था प्यारा था सभी को प्राण से भी वह बाल ध्रुव,  संतत-सुनीति-नयनों का बना तारा
 (2)
आया था बुलाने से पिता की गोद में बैठने को, किन्तु हा ! विमाता का कतु-वचन सुनना पड़ा वचन नहीं,   बाण थे,  हुए हिय के पार, अन्तर की वेदना से सिर धुनना पड़ा || आन का महान अपमान हो गया था, इस हेतु चिन्तन में कुछ और गुनना पड़ा | ध्रुव नाम सार्थक बन…

Sri Krishna Bhajan Mera Aapki Kripa Se Sab Kaam Ho Raha Hai

Image
मेरा आपकी कृपा से
मेरा आपकी कृपा से, सब काम हो रहा है।
करते हो तुम कन्हैया, मेरा नाम हो रहा है।।
मेरा आपकी कृपा से...

पतवार के बिना ही, मेरी नाव चल रही है,
हैरान है जमाना, मंजिल भी मिल रही है।
करता नहीं हूँ कुछ भी, सब काम हो रहा है।।
मेरा आपकी कृपा से...

तुम साथ हो जो मेरे, किस बात की कमी है,
किसी और वक्त की अब, दरकार ही नहीं है।
तेरे साथ से गुलाम अब, गुल्फाम हो रहा है।।
मेरा आपकी कृपा से...

मैं तो नहीं हूँ काबिल, तेरा प्यार कैसे  पाऊँ,
टूटी हुई वाणी से, गुणगान कैसे गाऊँ।
तुम्हरी ही प्रेरणा से, ये कमाल हो रहा है।।
मेरा आपकी कृपा से...




Sri Krishna Bhajan Mera Aapaki Kripa Se

mera aapakee kripa se, sab kaam ho raha hai.
karate ho tum kanhaiya, mera naam ho raha hai ..
mera aapakee kripa se ...

patavaar ke bina hee, meri naav chal rahee hai,
hairaan hai jamaana, manjil bhee mil rahee hai.
karata nahin hoon kuchh bhee, sab kaam ho raha hai ..
mera aapakee kripa se ...

tum saath ho jo mere, kis baat kee kamee hai,
kisi aur vakt kee ab, darakaar hee nahin hai.
tere saath se gulaam ab, gulphaam ho raha hai ..
mera aap…

देशाटन से लाभ

Image
जीवन की वास्तविकता गतिशीलता में निहित है. मनुष्य को अपने जीवन में विकास करने के लिये उसका जीवन उन्मुक्त, स्वच्छंद और बन्धन हीन होना बहुत जरुरी है. उसके मन में नवीन वस्तुओं, दृश्यों और स्थानों के प्रति कौतुहल और जिज्ञासा होनी चाहिए. यही मनोवृत्ति देशाटन करने को प्रेरित करता है.


देशाटन या यात्राका अर्थ है नए स्थानों, नए नगरों, नयी संस्कृतियों, नयी वेशभूषा, नए रीति –रिवाज, प्राकृतिक सौन्दर्य और विविध प्रकार के जीव -जंतुओंको निकट से देखने, उनकी निकटता का आनंद लेने और ज्ञान वृद्धि. यात्रा करने से मन की संकुचित भावना मिट जाती है. मस्तिष्क को चिंतनशील और क्रियाशील बनाने के लिये यात्रा करना बहुत जरुरी होता है. यात्रा करने से चूँकि वातावरण परिवर्तन हो जाता है, इसलिए मनुष्य के मन और मस्तिष्क में नवीनता आ जाती है.
यात्रा के पूर्व की तैयारी कैसे करें :  यात्रा पर जाने से पहले कुछ तैयारी कर लेना बहुत जरुरी होता है. मेरा तो मानना है कि सबसे पहले आप जहाँ जा रहे हैं वहां जाने का ट्रेन टिकट या वायुयान का टिकट  का पता कर लें. यदि आपकी यात्रा देश के अन्दर ही करनी है तो आप घरेलू  एयरलाइन से टिकट  का ticke…